Www kumar vishwas shayari - 🧡 Famous Dr. Kumar Vishwas Shayari / डॉ. कुमार विश्वास की मशहूर शायरी

Www kumar vishwas shayari

Kumar vishwas shayari www 40+ कुमार

Kumar vishwas shayari www Kausar Munir,

Kumar vishwas shayari www Kumar Vishwas

Kumar Vishwas Biography, Early Life, Achievements, Quotes

Kumar vishwas shayari www TOP

Kausar Munir Kumar Vishwas come together for ZEE Live's 'India Shayari Project'

Kumar vishwas shayari www कुमार विश्वास

65+ कुमार विश्वास शायरी इन हिंदी

Kumar vishwas shayari www Koi Deewana

Best Love Shayari By Dr. Kumar Vishwas

Kumar vishwas shayari www

Kumar vishwas shayari www

Kumar vishwas shayari www

Kumar vishwas shayari www

अमावस की काली रातों में कविता Kumar Vishwas ki Kavita Hindi Mein मावस की काली रातों में दिल का दरवाजा खुलता है, जब दर्द की काली रातों में गम आंसू के संग घुलता है, जब पिछवाड़े के कमरे में हम निपट अकेले होते हैं, जब घड़ियाँ टिक-टिक चलती हैं,सब सोते हैं, हम रोते हैं, जब बार-बार दोहराने से सारी यादें चुक जाती हैं, जब ऊँच-नीच समझाने में माथे की नस दुःख जाती है, तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है, और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है। जब पोथे खाली होते है, जब हर्फ़ सवाली होते हैं, जब गज़लें रास नही आती, अफ़साने गाली होते हैं, जब बासी फीकी धूप समेटे दिन जल्दी ढल जता है, जब सूरज का लश्कर छत से गलियों में देर से जाता है, जब जल्दी घर जाने की इच्छा मन ही मन घुट जाती है, जब कालेज से घर लाने वाली पहली बस छुट जाती है, जब बेमन से खाना खाने पर माँ गुस्सा हो जाती है, जब लाख मन करने पर भी पारो पढ़ने आ जाती है, जब अपना हर मनचाहा काम कोई लाचारी लगता है, तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है, और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है। जब कमरे में सन्नाटे की आवाज़ सुनाई देती है, जब दर्पण में आंखों के नीचे झाई दिखाई देती है, जब बड़की भाभी कहती हैं, कुछ सेहत का भी ध्यान करो, क्या लिखते हो दिन भर, कुछ सपनों का भी सम्मान करो, जब बाबा वाली बैठक में कुछ रिश्ते वाले आते हैं, जब बाबा हमें बुलाते है,हम जाते में घबराते हैं, जब साड़ी पहने एक लड़की का फोटो लाया जाता है, जब भाभी हमें मनाती हैं, फोटो दिखलाया जाता है, जब सारे घर का समझाना हमको फनकारी लगता है, तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है, और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है। दीदी कहती हैं उस पगली लडकी की कुछ औकात नहीं, उसके दिल में भैया तेरे जैसे प्यारे जज़्बात नहीं, वो पगली लड़की मेरी खातिर नौ दिन भूखी रहती है, चुप चुप सारे व्रत करती है, मगर मुझसे कुछ ना कहती है, जो पगली लडकी कहती है, मैं प्यार तुम्ही से करती हूँ, लेकिन मैं हूँ मजबूर बहुत, अम्मा-बाबा से डरती हूँ, उस पगली लड़की पर अपना कुछ भी अधिकार नहीं बाबा, सब कथा-कहानी-किस्से हैं, कुछ भी तो सार नहीं बाबा, बस उस पगली लडकी के संग जीना फुलवारी लगता है, और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है। 3.

  • मुक्कमल ज़िन्दगी तो है, मगर पूरी से कुछ कम है.




2022 ttcconservationfoundation.com.s3-website-us-west-1.amazonaws.com Www kumar vishwas shayari